बुधवार, 16 दिसंबर 2020

सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों में लापरवाही पाई गई तो होगी दण्डात्मक कार्रवाई कलेक्टर ने अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में दिए निर्देश

सीएम हेल्पलाइन में प्रापत शिकायतों के निराकरण में लापरवाही बरतने वाली अधिकारियों के विरूद्ध होगी दण्डात्मक कार्रवाई। एल-1 पर बिना अटेण्ड हुए शिकायत एल-2 व एल-3 पर जाती है तो एल-1 अधिकारी के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी। जिन अधिकारियों के पास सीएम हेल्पलाइन की ज्यादा शिकायतें हैं उनकी मॉनीटरिंग अपर कलेक्टर करेंगे। सभी अपर कलेक्टरों को विभागवार जिम्मेदारी सौंपी गई है। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सोमवार को अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में सीएम हेल्पलाइन की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिए हैं।
    कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में अंतरविभागीय समन्वय समिति की बैठक में शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं की प्रगति की समीक्षा के साथ-साथ सीएम हेल्पलाइन की भी विस्तार से समीक्षा की गई। जिन विभागों के पास 200 से अधिक शिकायतें लंबित हैं उन विभागों की शिकायतों के निराकरण के लिये अपर कलेक्टरों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। जीवाजी विश्वविद्यालय के पास 400 से अधिक शिकायतें लंबित पाए जाने पर प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा विभाग को पत्र लिखने के निर्देश भी कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने दिए हैं। उन्होंने जीवाजी विश्वविद्यालय के सहायक रजिस्ट्रार को भी निर्देशित किया है कि एक सप्ताह में शिकायतों का निराकरण सुनिश्चित कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें।
    कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने नगर निगम की कचरे से संबंधित अधिक शिकायतों पर अपर आयुक्त नगर निगम को एक सप्ताह में समस्त शिकायतों का निराकरण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों से कहा है कि वे सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों के निराकरण में सजग रहें। लापरवाही पाए जाने पर किसी भी अधिकारी को बख्शा नहीं जायेगा।

जनप्रतिनिधियों एवं वरिष्ठ अधिकारियों के पत्रों का दें जवाब

    कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में कहा कि कई विभागीय अधिकारी जनप्रतिनिधियों एवं शासन स्तर से वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा लिखे गए पत्रों का जवाब नहीं देते हैं, यह गंभीर अनियमितता है। सभी अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि जनप्रतिनिधियों और वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा जो भी पत्र लिखे जाते हैं उनमें बताई गई समस्याओं अथवा मांग के संबंध में तत्परता से कार्रवाई करें और की गई कार्रवाई के संबंध में संबंधित को पत्र लिखकर अवगत भी कराएँ। कलेक्टर ने यह भी निर्देशित किया है कि जनप्रतिनिधियों एवं वरिष्ठ अधिकारियों से प्राप्त पत्रों पर की गई कार्रवाई को एक पोर्टल पर दर्ज किया जाए और उसकी समीक्षा भी प्रति सप्ताह हो, यह सुनिश्चित किया जाए।

प्रति मंगलवार होने वाली जनसुनवाई फिर प्रारंभ

    कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में स्पष्ट किया है कि आमजनों की समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिये शासन के निर्देशानुसार की जाने वाली जनसुनवाई अब पुन: प्रारंभ की जा रही है। मंगलवार को कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई प्रारंभ होगी। जनसुनवाई में सभी जिला अधिकारी अनिवार्यत: उपस्थित रहें और जो आवेदन प्राप्त होते हैं उनका निराकरण भी तत्परता से सुनिश्चित किया जाए।
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी: केवल इस ब्लॉग का सदस्य टिप्पणी भेज सकता है.

हाईकोर्ट और सीनियर आई पी एस ने दर्ज कराई एफ आई आर बीस साल पहले , सरकारी धन के गबन और डकैती , भ्रष्टाचार , हरिजन एक्ट के मुलजिम न तो पकड़े और सरकार, कोर्ट ,कानून सबकी ऑंखों में धूल झोंकती रही मुरैना पुलिस

 मुरैना 15 सितंबर ( ग्वालियर टाइम्स ) लगातार 20 साल तक कोर्ट और कानून की ऑंखों में धूल झोंक कर भारी भरकम रिश्वत और भ्रष्टाचार की विष्ठा खा र...